मौर्य वंश | maurya dynasty

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on pinterest
Share on telegram

मौर्य वंश

चन्द्र गुप्त मौर्य :- मौर्य वंशवंश का संस्थापक चन्द्रगुप्त मौर्य था।

✏चाणक्य का वास्तविक नाम – विष्णु गुप्त, कौटिल्य था।

✏ इसके गुरु का नाम चाणक्य था।

✏इसने अर्थशास्त्र नामक पुस्तक लिखी है और इस पुस्तक में राजनितिक सम्बन्धी बातो का उल्लेख्य किया गया है।

मौर्य वंश maurya dynasty

चाणक्य

✏मौर्य वंश की प्रचलित मुद्रा –पण थी।

✏चन्द्र गुप्त मौर्य के शासन काल में सिकंदर के सेनापति सेल्यूकस निकेटर ने आक्रमण किया था।

✏सेल्युकस निकेटर के राजदूत का नाम-: मेगस्थनीज था।

✏ मेगस्थनीज ने इंडिया नामक पुस्तक लिखी थी।

📌 सेल्यूकस निकेटर की पुत्री कार्नेलिया के साथ चंद्र गुप्त मौर्य में विवाह किया था।

📌 इसने भारत के 8 महाजन पदों पर कब्ज़ा जमाया था।

📌 चन्द्र गुप्त मौर्य ने अपने जीवन के अंतिम समय में जैन धर्म को स्वीकार किया था।

📌 इसकी मृत्यु श्रवण बेल गोला में उपवास के दौरान हो गई थी।

मौर्य वंश | maurya dynasty

📌 इसके बाद बिंदुसार अगला शासक बना।

बिंदुसार

📌 पुराणों में बिंदुसार को –अमित्रघात,वारिसार, भद्रसार के नाम से जानते है।

📌 यह जैन धर्म का अनुयायी था

📌 बिंदुसार के शासन काल में तक्षशिला में विद्रोह हुआ था। और इसने अशोक को विद्रोह दबाने के लिए भेजा था।

📌 अशोक ने न केवल विद्रोह को शांत किया बल्कि वहाँ की प्रजा का प्रेम और विश्वास भी जीता।

📌 बिंदुसार ने भारत के 10 महाजन पदों पर राज किया था, इसके बाद अगला शासक मौर्य वंश अशोक बना।

अशोक

📌 पूरे मौर्य वंश में अशोक सबसे महाप्रतापी शासक था।
📌 अशोक ‘देवानामप्रिय’ के नाम से विख्यात था।
📌 इसके शासन काल में शिलालेखों का प्रचलन बड़ा था।
📌 इन शिलालेखों की खोज सबसे पहले 1750 में फेंथेलर ने की थी और सबसे पहले 1837 में इसको जेम्स प्रिसेप ने इन शिलालेखों को पड़ा था।
📌 प्रारम्भ में तो अशोक जैन धर्म का अनुयायी था लेकिन बाद में कॉलिंग युद्ध में भरी मार-काट के बाद इसने शस्त्रों का त्याग कर दिया था।
📌 और इसने गौतम बुद्ध के शिष्य उप गुप्त से बौद्ध धर्म की दीक्षा ली थी मौर्य वंश का अंतिम शासक ब्रहद्रथ।

मौर्य वंश (Mauryan dynasty)

✏ Chandra Gupta Maurya: – The founder of the Maurya dynasty was Chandragupta Maurya. Chanakya’s real name was Vishnu Gupta, Kautilya. ✏ Its master’s name was Chanakya. He has written a book called Arthashastra, and in this book, things related to politics have been mentioned.

Maurya dynasty

Chanakya The prevailing currency of the Maurya dynasty was Pan. During the reign of Chandra Gupta Maurya, Alexander’s general Seleucus Nicator had invaded. The name of the ambassador of Seleucus Nicator was: Megasthenes. Megasthenes wrote a book called India.

📌 Seleucus was married to Cornelia, daughter of Nicator, in Chandra Gupta Maurya. It occupied 8 Mahajan posts in India.

📌 Chandra Gupta Maurya had accepted Jainism in the last period of his life.

📌 It died during fasting in Shravan Bell Gola. Maurya dynasty Maurya dynasty

📌 After this, Bindusara became the next ruler. Point by point में In Puranas, Bindusara is known as Amitraghat, Warisara, Bhadrasara. He was a follower of Jainism. There was a revolt in Taxila during the reign of Bindusara. And it sent Ashoka to suppress the rebellion.

📌 Ashoka not only calmed the revolt but also won the love and trust of the people there.

📌 Bindusara ruled over 10 Mahajan positions in India, after which Ashoka became the next ruler. Ashok Ashoka was the most majestic ruler in the entire Mauryan dynasty.

📌 Ashoka was known as ‘Devanampriya.’

📌 Inscriptions were prevalent during its reign. These inscriptions were first discovered by Fenthaler in 1750 and first read by James Presep in 1837.

📌 Initially, Ashoka was a Jainism follower, but later, he gave up arms after a full-scale massacre in the Calling War. 📌 And it had initiated Buddhism from Sub Gupta, a disciple of Gautama Buddha, the last ruler of this dynasty, Brahdratha.

About Me

1 thought on “मौर्य वंश | maurya dynasty”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
Register if you don't have an account







Recommended Photo Size: 250 x 320.