घर बैठे सिविल सेवा परीक्षा हेतु तैयारी कैसे प्रारंभ करें ? 5 tips

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on pinterest
Share on telegram
घर बैठे सिविल सेवा परीक्षा हेतु तैयारी कैसे प्रारंभ करें ? 5 tips
Contents hide

घर बैठे सिविल सेवा परीक्षा हेतु तैयारी कैसे प्रारंभ करें ?

आज की हमारी पोस्ट सिविल सेवा की तैयारी से संबंधित है। इसमें हम आपको घर बैठे सिविल सेवा परीक्षा हेतु तैयारी कैसे प्रारंभ करें इस बारे में जानकारी देंगे, जिससे कि जो व्यक्ति बाहर कोचिंग संस्थानों में रहकर तैयारी नहीं कर सकता वो अपने सिविल सेवा अधिकारी बनने के सपने को घर पर रहते हुए ही पूरा कर सके। तो चलिये दोस्तो शुरु करते हैं –

सिविल सेवा परीक्षा की प्रकृति को समझना

सिविल सेवा परीक्षा के लिए तैयारी शुरू करने से पूर्व यह बहुत महत्वपूर्ण होता है कि, आपके पास संपूर्ण परीक्षा प्रणाली, सिलेबस, परीक्षा की संरचना और परीक्षा संबंधित अन्य विभिन्न मुद्दों की पूर्ण समझ हो। हाल ही के बरसों में देखा गया है कि सिविल सेवा परीक्षा प्रणाली में व्यापक बदलाव हुए हैं, यह बदलाव परीक्षा के पाठ्यक्रम, परीक्षा की पद्धति, अभ्यर्थियों हेतु अवसर की सीमा एवं आयु संबंधी है. तथा भविष्य में भी कुछ बदलाव हो सकते हैं।
कभी-कभी यह देखा जाता है कि कई अभ्यर्थियों को परीक्षा संबंधी पूर्ण जानकारी नहीं होती है, वे आधी अधूरी जानकारी लेकर चलते हैं।

नये व्यक्तियों के सामने परीक्षा संबंधी कई प्रश्न होते हैं जो विज्ञापन को अच्छे से पढ़ कर दूर किए जा सकते हैं। वर्तमान परीक्षा प्रणाली में हुए परिवर्तनों को ध्यान मैं रखते हुये यह बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है कि, संबंधित परिवर्तनों की अच्छी समझ हेतु विज्ञापन का गहराई से अध्ययन किया जाए। जब आप लोग इस बात को जान लेंगे कि आयोग आपसे क्या चाहता है ?, और सिविल सेवा आपमें क्या खोजता है ?

तब परीक्षा हेतु आपका अध्ययन ज्यादा प्रभावशाली और सफलता केंद्रित होगा। तैयारी कि प्रत्येक चरण में आप को एक बात ध्यान में रखनी चाहिए कि प्राप्तांको का उतना महत्व नहीं है जितना महत्व इस बात का है की परीक्षा में सफलता प्राप्ति हेतु आप अन्य व्यक्ति की तुलना में कितना बेहतर कर पाते हैं। परीक्षा की प्रकृति को निम्नलिखित बिंदुओं के आधार पर समझा जा सकता है –

  • विज्ञापन का संपूर्ण अवलोकन करना
  • परीक्षा पाठ्यक्रम और परीक्षा की मांग को समझना
  •  पिछले वर्षों के प्रश्न पत्र का गहराई से समग्र विश्लेषण करना और वर्तमान
  •  परीक्षा प्रवृतियों को समझना
  • परीक्षा के बारे में शिक्षकों सफल अभ्यर्थियों असफल अभ्यर्थियों वरिष्ठ
  • अभ्यर्थियों और मित्रों आदि से चर्चा करना

 सिविल सेवा की तैयारी शैक्षणिक योग्यता –

किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी विषय में स्नातक की उपाधि प्राप्त होना चाहिये।

सिविल सेवा परीक्षा की आयु सीमा

  •  सामान्य अभ्यर्थी के लिए यह आयु सीमा 21 वर्ष से कम तथा 32 वर्ष से अधिक ना हो।
  •  अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए यह आयु सीमा 21 वर्ष से कम तथा 35 वर्ष से अधिक ना हो।
  •  अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति से संबंधित अभ्यर्थियों हेतु यह आयु सीमा 21 वर्ष से कम तथा 37 वर्ष से अधिक ना हो।

सिविल सेवा परीक्षा में अवसरों की संख्या

सामान्य वर्ग के व्यक्ति हेतु वर्तमान में 6 प्रयास हैं, अन्य पिछड़ा वर्ग से संबंधित अभ्यर्थियों हेतु वर्तमान में 9 प्रयास है, तथा अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति से संबंधित अभ्यर्थियों के लिए प्रयासों की कोई सीमा लागू नहीं है, अर्थात वे 37 वर्ष तक परीक्षा में शामिल हो सकते हैं।

सिविल सेवा परीक्षा की योजना

यह सिविल सेवा परीक्षा तीन चरणों में आयोजित की जाती है।

1.सिविल सेवा परीक्षा की प्रारंभिक परीक्षा –

सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा जो कि त्रणात्मक अंकों की व्यवस्था के साथ वस्तुनिष्ठ (Objective) प्रकार की होती है। प्रारंभिक परीक्षा एक स्क्रीनिंग परीक्षा है, जिसके द्वारा मुख्य परीक्षा हेतु कुछ हजार उम्मीदवारो का चयन किया जाता है। अंतिम परिणाम में प्रारंभिक परीक्षा के अंकों को शामिल नहीं किया जाता।

इस परीक्षा का प्रथम प्रश्न पत्र सामान्य अध्ययन (GS) 200 अंक का होता है। तथा द्वितीय प्रश्न पत्र सिविल सेवा अभिरुचि परीक्षा (CSAT) 200 अंक का होता है, जो केवल क्वालीफाइंग स्तर ( 33 प्रतिशत ) का होता है, मतलब कि इसके नंबर मुख्य परीक्षा हेतु बनने वाली मेरिट में नहीं जोडे जाते।

इसका सीधा सा मतलब है सिविल सेवा कि मुख्य परीक्षा हेतु बनने वाली मेरिट केवल प्रथम प्रश्न पत्र (GS) के पेपर के आधार पर बनती है, दूसरे प्रश्न पत्र अर्थात सीसैट में केवल 33% अंकों के साथ पास होना अनिवार्य होता है। द्वितीय प्रश्न पत्र आर्थात CSAT के क्वालीफाई हो जाने के कारण अब यह विशेष रूप से गैर तकनीकी पृष्ठभूमि के अभ्यर्थियों, ग्रामीण पृष्ठभूमि के अभ्यर्थियों के लिए आसान हो गया है।

इससे पूर्व ये अभ्यर्थी द्वितीय प्रश्न पत्र की योग्यता निर्धारण में मुख्य भूमिका होने के कारण नुकसान की स्थिति में रहते थे, यह प्रश्न पत्र उनके अनुकूल नहीं था। अब परीक्षा प्रणाली प्रत्येक अभ्यर्थी के लिए समान स्तर की हो गई है, या तो सबके लिए कठिन या सबके लिए सामान्य।

2.सिविल सेवा परीक्षा की मुख्य परीक्षा –

सिविल सेवा परीक्षा में सफलता हेतु इसका बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान होता है, यह कुल 2050 अंकों की होती है वर्तमान में अभ्यर्थी को एक वैकल्पिक विषय का चयन करना होता है, जिसके दो प्रश्न पत्र ( प्रत्येक – 250 अंक) होते है। निबंध का एक प्रश्न पत्र होता है जो दो खंडों में विभाजित होता है तथा प्रत्येक खंड सेे एक निबंध लिखते हुए कुल 2 निबंध लिखने होते है। प्रत्येक निबंध हेतु 1250 शब्द सीमा निर्धारित होती है वर्तमान में निबंध हेतु 250 अंक निर्धारित किए गए हैं।

सामान्य ज्ञान के 4 प्रश्न पत्र होते है तथा प्रत्येक प्रश्न पत्र हेतु 250 अंक निर्धारित किए गए है इसके अलावा 2 अनिवार्य क्वालीफाइंग प्रश्न पत्र ( प्रत्येक 300 अंक ) होते हैं। जिनके अंक इंटरव्यू के लिए बनने वाली मेरिट में नहीं जोडे जाते। अर्थात इन दोनों प्रश्न पत्रों में केवल क्वालीफाई होना होता है। इसमें पहला अंग्रेजी भाषा का प्रश्न पत्र होता है जिसमें अहर्ता प्राप्त करने हेतु न्यूनतम 25% अंक ( 300 अंकों में से ) लाने होते है, तथा दूसरे प्रश्न पत्र के रूप में आप संविधान की आठवीं अनुसूची में वर्णित किसी एक भाषा को चुन सकते हैं इसमेंं अहर्ता प्राप्त करने हेतु न्यूनतम 30% अंक ( 300 अंकों में से ) लाने होते हैं।

3.सिविल सेवा परीक्षा में इंटरव्यू

मुख्य परीक्षा परिणाम के आधार पर विभिन्न सेवाओं हेतु विज्ञापित पदों की संख्या का लगभग 3 गुना व्यक्तियों को आयोग द्वारा साक्षात्कार हेतु बुलाया जाता है। इंटरव्यू हेतु 275 अंक निर्धारित किए गए है तो यहां तक हमने सिविल सेवा की संपूर्ण परीक्षा की पद्धति को समझा, अब बात आती है कि इसकी तैयारी किस प्रकार की जाए।

कैसे अध्ययन करें ?

समझ और स्पष्टता हेतु पढ़ाई करे –

समय की बचत हेतु परीक्षा पैटर्न व उसके सिलेबस के अनुसार ही अध्ययन करे, किसी निश्चित टॉपिक या विषय हेतु एक या दो मानक पुस्तकें पढ़ें। एक टॉपिक हेतु कई पुस्तकें पढ़ने की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं है। आपको सिविल सेवक बनना है न कि विद्वान। सिविल सेवा परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्ति हेतु विषय वस्तु को एक दूसरे के साथ अंतर-संबंधित करते हुए पढ़ना चाहिए, इस प्रकार की प्रक्रिया के द्वारा आप चीजों को लंबे समय तक याद रख पाएंगे।

आपको किसी भी पुस्तक का उच्च स्तर तक अध्ययन नहीं करना है, आपको केवल सिविल सेवा परीक्षा में सफलता के लिए अध्ययन करना है, ना कि उस विषय का विद्वान बनने के लिए। स्पष्टता के साथ विषय का मूलभूत ज्ञान परीक्षा में सफलता के लिए पर्याप्त है और सिविल सेवा परीक्षा के विशाल पाठ्यक्रम को तैयार करने की भी एक मानवीय सीमा होती है, इस सीमा के बाहर जाकर कुछ भी तैयार नहीं हो सकता।

यहां पर हम आपको UPSC/IAS व अन्य State PSC की परीक्षाओं हेतु Toppers द्वारा सुझाई गई महत्वपूर्ण पुस्तकों की सूची उपलब्ध करा रहें हैं जो आपको सिविल सभी पुस्तकों के चयन में मदद करेंगी। तैयारी के दौरान कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं को ध्यान में रखना चाहिए जो निम्न है –

  • तैयारी परीक्षा केंद्रित होना चाहिए, और आपका कठिन परिश्रम सही दिशा में होना चाहिए।
  • प्रत्येक टॉपिक पढ़ते समय उद्देश्य होना चाहिए कि हमें उस टॉपिक की मूलभूत समझ आ जाए।
  • आपका अधिकतर समय सोचने और परिचर्चा में खर्च होना चाहिए, ना की कई पुस्तकों से अध्ययन सामग्री पढ़ने मे।
  • मेरे अनुसार सिविल सेवा परीक्षा में सफलता हेतु सबसे पहले किसी भी टॉपिक का अध्ययन करें, फिर उसके बाद चिंतन करें, और उसके बाद उसका लेखन करें।
  • पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों का गहराई से विश्लेषण करें, जिससे कि आप परीक्षक की मांग को समझ सके।
  • सिविल सेवा परीक्षा में सफलता हेतु इस बात को जानना अधिक आवश्यक है क्या नहीं पढ़ना है।

सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी में समूह परिचर्चा (Group Discussion)

आप जो कुछ भी पढ़ते है उसकी अपने मित्रों और सहपाठियों के साथ चर्चा अवश्य करें। आप किसी भी टॉपिक पर बोलने में तभी सक्षम होंगे जब आपने संबंधित टॉपिक ( विषय ) का गहराई से अध्ययन किया होगा, टॉपिक की परिचर्चा के द्वारा आप उस टॉपिक से संबंधित विभिन्न मुद्दों को जान पाते हैं और आपके सम्मुख टॉपिक से संबंधित कई नवीन प्रश्न भी उत्पन्न होती है

दोहराना (Revision) – आप जो कुछ भी पढ़ रहे हैं नियमित अंतराल में उसे दोहराते चलें टॉपिक या विषय की दोहराव के द्वारा आप इससे संबंधित प्रश्न भी हल करते रहें।

How to start preparing for the civil service exam staying at home?

Our post today is related to civil service preparation. In this, we will give you information about how to start preparing for the civil service exam sitting at home. The person who cannot prepare outside in coaching institutes can fulfill his dream of becoming a civil service officer while staying at home.

So let’s start with friends –

understanding the nature of the civil service exam –

before you start preparing for the civil service exam, you must have a complete exam system, syllabus, exam structure, and various other issues related to the exam. Have a thorough understanding. In recent years it has been observed that there have been extensive changes in the civil service examination system; this change is related to the syllabus of the examination, the method of analysis, the scope of opportunity for the candidates, and the age. And there may be some changes in the future too.

Sometimes, many candidates do not have complete information about the exam; they carry half incomplete information. Newcomers have many exam questions that can be solved by reading the ad well. Given the current examination system changes, i

t is essential to study the advertisement in-depth to understand the related changes better.

When do you people know what the commission wants from you? And what finds in you?

Then your study for the exam will be more effective and success-focused.

One thing you should keep in mind in each step of preparation is that scores are not as important as how well you can do better than the other person to succeed in the exam.

The nature of the examination can be understood based on the following points: Understanding

5. Teachers about the exam Successful candidates Unsuccessful candidates Senior

6. They were discussing with candidates and friends etc.

Educational Qualifications –

Must have graduated in any subject from any recognized university.

Age limit –

1. For general candidates, this age limit should not be less than 21 years and not more than 32 years.

2. This age limit should not be less than 21 years for other backward classes and not more than 35 years.

3. For candidates belonging to Scheduled Castes and Scheduled Tribes, this age limit should not be less than 21 years and not more than 37 years.

Number of Opportunities –

There are currently six attempts for general category candidates, nine attempts at present for OBC candidates, and no limit of efforts for SC / ST candidates, i.e., 37 Can join the exam for years.

Examination Plan –

This exam is conducted in three stages.

1. Preliminary Examination – Civil Service Preliminary Examination, which is of objective type with the arrangement of negative marks. The preliminary examination is a screening examination, by which a few thousand candidates are selected for the main examination.

Preliminary exam marks are not included in the final result. The first question paper of this exam is General Studies (GS) of 200 marks. And the second question paper of the Civil Service Aptitude Test (CSAT) is of 200 marks, which is only of qualifying level (33 percent), meaning that its marks are not added to the main examination’s merit.

This means that the main examination’s price is formed only based on the paper of the first question paper (GS); in the second question paper, i.e., CSAT, it is mandatory to pass with only 33% marks. With the second question paper qualification, i.e., CSAT, it has now become more comfortable, especially for the candidates from a non-technical background, candidates from the rural background.

Earlier, these candidates were in a position of loss due to their prominent role in determining the second question paper; this question paper was not in their favor. Now the examination system has become of the same level for each candidate, either difficult for everyone or familiar for everyone.

2. Main Examination –

It has a significant place for success in Civil Service Examination; it has a total of 2050 marks. At present, the candidate has to choose an optional subject with two question papers (each – 250 characters). Is. The essay has a question paper divided into two sections, and a total of 2 essays have to be written while writing one essay from each section. There is a limit of 1250 words for each essay.

Currently, there are 250 marks for the essay. There are four general knowledge question papers, and 250 marks have been allotted for each question paper; besides, there are two compulsory qualifying question papers (300 marks each). Whose marks are not added to the merit for the interview?

That is, only these two question papers have to qualify. It consists of the first English language question paper in which a minimum of 25% marks (out of 300 marks) is required to qualify

3. Based on the interview main examination result, about 3 times the number of posts advertised for various services, people are called for interview by the Commission. 275 marks have been set for the interview, so far we have understood the methodology of the entire examination of civil service, now it comes to know how to prepare for it.

How to study

Study for understanding and clarity –

To save time, study according to the exam pattern and its syllabus, read one or two standard books for a certain topic or subject. There is absolutely no need to read many books for one topic. You have to be a civil servant and not a scholar. To get good marks in Civil Services Examination, you should read the subject matter inter-related with each other, through this type of process you will be able to remember things for a long time.

You do not have to study any book to a high level, you only have to study for success in the Civil Services Examination, not to become a scholar of that subject. Basic knowledge of the subject with clarity is sufficient for success in the examination and there is also a human limit to preparing the vast syllabus of the Civil Services Examination, nothing can be prepared beyond this limit.

Here we are providing you the list of important books suggested by Toppers for UPSC / IAS and other state PSC exams which will help you in the selection of all civil books. Some important points should be kept in mind during the preparation which is as follows –

Preparation should be exam-focused, and your hard work should be in the right direction. While reading each topic, the aim should be that we get a basic understanding of that topic. Most of your time should be spent thinking and discussing, rather than reading study material from many books.

According to me, for success in Civil Services Examination, first study any topic, then think about it, and then write it down. Do an in-depth analysis of previous year’s question papers so that you can understand the demand of examiner. It is more important to know what not to read in order to succeed in the exam.

Group Discussion

Whatever you read, discuss it with your friends and classmates. You will be able to speak on any topic only if you have studied the topic (subject) in depth, through the discussion of the topic, you get to know various issues related to that topic and many new questions related to the topic before you.

Revision occurs – Keep repeating whatever you are reading in regular intervals by repeating the topic or topic, you also keep solving the questions related to it.

About Me

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
Register if you don't have an account







Recommended Photo Size: 250 x 320.